एक सीख – खुद के दायरे को बढ़ाइए

एक बार एक आदमी के घर की चाभी खो गया और काफी देर से ढूंढ रहा था।उसका पड़ोसी उसे यू परेशान देखा तो उससे रहा न गया और उसके पास जाकर पूछा क्या हुआ क्यों परेशान हो।उस आदमी ने बोला यार मेरे घर की चाभी खो गई है इसलिए परेशान हो।पड़ोसी ने कहा कोई नहीं भाई दोनों मिल के ढूंढते हैं।काफी देर ढूढने के बावजूद भी जब चाभी नहीं मिली तो परेशान हो कर पड़ोसी ने कहा, भाई तू श्योर तो है ना की चाभी यहीं खोया है।दोस्त ने बोला नहीं चाभी तो वहां गिरी है (अंधेरे की तरफ दिखा के बोला)पड़ोसी झल्ला गया और बोला तो फिर यहां क्यों ढूढ़ रहे हो।उसने कहा क्यों की था लाईट जल रही हैं।यही हमारे जीवन की सच्चाई है कि हम कभी भी सही समस्याओं का निवारण नहीं करते और ना ही हम अपने comfort zone से बाहर निकल पाते है।Like & share

Leave a comment

Leave a Reply